Maa Shayari | Maa Shayari In Hindi | माँ पर शायरी

Read the Best collection of Maa Shayari | Maa Shayari In Hindi | माँ पर शायरी, hindi Maa shayari, Shayari on maa, mother thought in hindi, 2 line maa status, हिंदी में माँ शायरी, mother's Day special quotes.etc and share your feelings with friends and family.

Maa Shayari In Hindi

Maa Shayari | Maa Shayari In Hindi | माँ पर शायरी क्या खूब लिखा है :


"कमा के इतनी दौलत भी मैं 
अपनी "माँ" को दे ना पाया,
के जितने सिक्कों से "माँ" 
मेरी नज़र उतारा करती थी..."


तकलीफ मुझे होती हे और वो पुरी रात नहीं सोती, 
कैसे बताऊँ ऊसके बारे मे, माँ शब्द मे बयान नहीं होती..!! 


कोई दुआ असर नहीं करती, जब तक वो हम पर नजर नहीं करती,
हम उसकी खबर रखे न रखे, वो कभी हमें बेखबर नहीं करती।


ठोकर न मार मुझे पत्थर नहीं हूँ मैं, हैरत से न देख मुझे मंज़र नहीं हूँ मैं,
तेरी नज़रों में मेरी क़दर कुछ भी नहीं, मेरी माँ से पूछ उसके लिए क्या नहीं हूँ मैं।


रुके तो चांद जैसी है चले तो हवाओं जैसी है, वह माँ ही है जो धूप में भी छांव जैसी है..!!


जिस के होने से मैं खुदको मुक्कम्मल मानती हूँ ,
मेरे रब के बाद मैं बस अपने माँ – बाप को जानती हूँ


बालाएं आकर भी मेरी चौखट से लौट जाती हैं,
मेरी माँ की दुआएं भी कितना असर रखती हैं।

वह माँ ही है जिसके रहते,
जिंदगी में कोई गम नहीं होता,
दुनिया साथ दे या ना दे पर,
माँ का प्यार कभी कम नहीं होता।


है एक कर्ज़ जो हर दम सवार रहता है,
वो माँ का प्यार है . सब पर उधार रहता है ! !

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती, बस सिर्फ एक माँ ही है जो कभी खफा नहीं होती..!!


भूल जाता हूँ परेशानियां ज़िंदगी की सारी,
माँ अपनी गोद में जब मेरा सर रख लेती है..!! 

मेरी दुनिया में जो इतनी शोहरत है, वह मेरी माँ बाप की बदौलत है..!!

घुटनों से रेंगते-रेंगते जब पैरों पर खड़ा हो गया,
माँ तेरी ममता की छाँव में जाने कब बड़ा हो गया।

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
बस सिर्फ एक माँ ही है जो कभी खफा नहीं होती.
कुछ पा ना सके तो क्या गम है माँ बाप को पाया है यह क्या कम है.


Mother का " M " ही महत्वपूर्ण है। क्युकी "M" के बिना बाकी सब other है।


न अपनों से खुलता है, न गैरो से खुलता है, 
ये जन्नत का दरवाजा है, माँ के पैरो से खुलता है!!


एक मुद्दत हुई मेरी मां नही सोई …
मेने एक बार कहा था के मुझे डर लगता है।


मेरी किस्मत मे आज एक भी गम ना होता, 
अगर किस्मत लिखने का हक मेरी माँ को होता..!! 


मेरी खातिर तेरा रोटी पकाना याद आता है,
अपने हाथो को चूल्हे में जलाना याद आता है।
वो डांट-डांट कर खाना खिलाना याद आता है,
मेरे वास्ते तेरा पैसा बचाना याद आता है।


पहाड़ो जैसे सदमे झेलती है उम्र भर लेकिन,
इक औलाद की तकलीफ़ से माँ टूट जाती है।


सब कुछ मिल जाता है दुनिया में मगर, याद रखना कि माँ-बाप नहीं मिलते,
मुरझा कर जो गिर जाये एक बार डाली से, ये ऐसे फूल हैं जो फिर नहीं खिलते।

Tags : maa shayari, ma shayari in hindi, maa ka ladala shayari, mom status, ma ke liye shayari, mothers day shayari,